हेल्थ

पोषक तत्वों का पावरहाउस है ये सब्जी, महंगी जरूर लेकिन बीपी, कोलेस्ट्रॉल और कैंसर के लिए है काल! इसमें है 8 हजार एंटीऑक्सीडेंट्स

यह सब्जी देखने में फूल की तरह लगती है. उपर कांटेदार फूल लगे होते हैं लेकिन इसके अंदर के भाग को सब्जी के रूप में खाया जाता है. रिसर्च में यह साबित हो चुका है कि इस सब्जी के कई फायदे हैं.

Artichokes Health Benefits

इस सब्जी का नाम है आर्टिचोक. इसे हिन्दी में हाथी चक भी कहा जाता है. हालांकि यह सब्जी भारत में बहुत कम उगाया जाता है लेकिन विदेश से हमारे पास इस सब्जी का आयात होता है जिस कारण यह थोड़ी महंगी है. पर आर्टिचोक पोषक तत्वों का पावर हाउस है. कभी-कभी भी इसका सेवन कर लिया जाए तो इसके बेमिसाल फायदे मिलेंगे क्योंकि इस सब्जी में प्रोटीन, विटामिन, मिनिरल्स का खजाना छुपा होता है. एक कप आर्टिचोक में 8 हजार से ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं जो कई बीमारियों के जोखिम को कम करते हैं.

हाथीचक में मौजूद पोषक तत्व
क्लीवलैंड क्लीनिक की रिपोर्ट के मुताबिक आर्टिचोक या हाथीचक में पोषक तत्वों का भंडार छिपा होता है. एक बड़ा हाथीचक में सिर्फ 76 कैलोरी होती है लेकिन 17 ग्राम कार्बोहाइड्रैट होता है. इसमें कोलेस्ट्रॉल और फैट बिल्कुल भी नहीं होता. इन सबके अलावा कॉपर, फॉलेट, मैग्नीशियम, विटामिन के, विटामिन सी, मैग्नीज, पोटैशियम, फॉस्फोरस, आयरन, नियासिन, विटामिन बी 5, विटामिन बी 6, थियामिन सहित कई पोषक तत्व मौजूद होते हैं.

बीमारियों के खिलाफ सुरक्षा कवच
आर्टिचोक में हजारों तरह के केमिकल्स होते हैं जो बैक्टीरिया, फंगस, पारासाइट्स और वायरस जैसे सूक्ष्म जीवों से रक्षा करते हैं. दरअसल, फायटोकेमिकल में एंटीऑक्सीडेंट्स गुण होता है. यूएस डिपार्टमेंट ऑफ एग्रीकल्चर की एक रिसर्च के मुताबिक एक आर्टिचोक में 8000 से ज्यादा एंटीऑक्सीडेंट्स होते हैं. इसलिए यह फ्री रेडिकल्स के कारण कोशिकाओं के डैमेज को कम करता है. फ्री रेडिकल्स के कारण कैंसर सहित कई क्रोनिक बीमारियां होती है. यानी आर्टिचोक इन बीमारियों के जोखिम को भी कम करने में मददगार साबित हो सकता है.

कोलेस्ट्रॉल कम-हाथीचक में साइनरिन नाम का फायोटोकेमिकल पाया जाता है जो बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करता है. एक अध्ययन में पाया गया कि जब कुछ व्यक्तियों में आर्टिचोक की पत्तियों से तैयार दवा को 6 सप्ताह तक दिया गया तो उसमें कोलेस्ट्रॉल लेवल 18 प्रतिशत तक कम हो गया.

पाचन में सुधार-साइनारिन फायटोकेमिकल लिवर में बाइल को बनाने में भी मदद करता है. इसी बाइल से भोजन टूटकर पचता है और उससे पोषक तत्व निकलते हैं. अध्ययन में पाया गया कि आर्टिचोक की पत्तियों से तैयार दवा इरीटेबल बाओल सिंड्रोम को 26 प्रतिशत तक और पेट संबंधी समस्याओं को 40 प्रतिशत तक कम कर देता है. हाथीचक पाचन शक्ति को मजबूत करता है.

लिवर की मजबूती-हाथीचक लिवर को मजबूत बनाने में बहुत मददगार है. इसमें फ्लेवेनोएड कंपाउड पाया जाता है जो लिवर डैमेज से बचाता है. यूरोप में पुराने जमाने में आर्टिचोक से तैयार दवा का इस्तेमाल जॉन्डिस और लिवर की बीमारी में किया जाता था.

वजन कम करने में-आर्टिचोक का सेवन कर वजन कम किया जा सकता है क्योंकि इसमें बहुत अधिक फाइबर पाया जाता है जो पूरा दिन पेट को भरा हुआ महसूस कराता है. वहीं हाथीचक में बहुत अधिक प्रोटीन भी पाया जाता है जो पूरा दिन बॉडी और मसल्स की मरम्मत के लिए जरूरी है.

ब्लड प्रेशर कंट्रोल-एक बड़ा हाथीचक में 600 मिलीग्राम पोटैशियम होता है जो किडनी और हार्ट दोनों के लिए जरूरी है. पोटैशियम ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है.

कैंसर के जोखिम को कम करता है-आर्टिचोक में पोलीफेनोल एंटीऑक्सीडेंट होता है जो इंफ्लामेशन और कैंसर से लड़ता है. यह कंपाउड कैंसर कोशिकाओं को बढ़ने से रोकता है. स्टडी में भी पाया गया है कि आर्टिचोक ब्रेस्ट कैंसर, कोलोन कैंसर, ल्यूकीमिया, लिवर कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर को जोखिम को कम करता है.

डोनेट करें - जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर क्राइम कैप न्यूज़ को डोनेट करें.
 
Show More

Related Articles

Back to top button
Close