Breaking News

NDA सरकार गलती से बनी…यह अल्पमत की सरकार है, कभी भी गिर सकती है : खरगे का दावा

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने दावा किया कि एनडीए सरकार ‘गलती से बनी है’ और इसका गिरना तय है। खरगे ने 14 जून को बेंगलुरु में कहा, “एनडीए सरकार गलती से बनी है। मोदी जी के पास जनादेश नहीं है। यह अल्पमत की सरकार है। यह सरकार कभी भी गिर सकती है।”

 

नेशनल डेस्क

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे ने दावा किया कि एनडीए सरकार ‘गलती से बनी है’ और इसका गिरना तय है। खरगे ने 14 जून को बेंगलुरु में कहा, “एनडीए सरकार गलती से बनी है। मोदी जी के पास जनादेश नहीं है। यह अल्पमत की सरकार है। यह सरकार कभी भी गिर सकती है।”

उन्होंने कहा, “हम चाहते हैं कि यह जारी रहे, देश के लिए यह अच्छा हो। हमें देश को मजबूत बनाने के लिए मिलकर काम करना चाहिए। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री की आदत है कि वे किसी अच्छी चीज को जारी नहीं रहने देते। लेकिन हम देश को मजबूत बनाने के लिए सहयोग करेंगे।” उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब कुछ दिनों पहले ऐसी अटकलें लगाई जा रही थीं कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अपने गठबंधनों को बनाए रखने के लिए संघर्ष कर रही है।

एनडीए सहयोगियों की प्रतिक्रिया आई सामने
प्रधानमंत्री मोदी और गठबंधन सरकार पर खरगे के आरोपों पर एनडीए सहयोगियों की ओर से त्वरित प्रतिक्रिया आई और उनसे कांग्रेस नीत सरकारों के प्रधानमंत्रियों के स्कोरकार्ड उपलब्ध कराने को कहा गया।  जेडी(यू) ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकारों के इतिहास को खंगाला और पूर्व प्रधानमंत्रियों पीवी नरसिम्हा राव और डॉ. मनमोहन सिंह के कार्यकाल का हवाला देते हुए खरगे की आलोचना पर सवाल उठाया।

जेडीयू नेता ने खरगे की बुद्धि पर उठाए सवाल 
बिहार के पूर्व आईपीआरडी मंत्री और जेडीयू एमएलसी नीरज कुमार ने खरगे की बुद्धि पर सवाल उठाया और उनसे पीवी नरसिम्हा राव और मनमोहन सिंह की कांग्रेस नीत सरकारों के स्कोरकार्ड के बारे में पूछा। उन्होंने याद दिलाया कि 1991 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के पास भी भाजपा की मौजूदा सीटों के बराबर ही सीटें थीं। बहुमत हासिल न करने के बावजूद कांग्रेस ने नरसिंह राव के नेतृत्व में अल्पमत की सरकार बनाई। राव की रणनीतिक राजनीतिक चालों ने आखिरकार उनकी सरकार की स्थिति मजबूत की और दो साल के भीतर उसे बहुमत में पहुंचा दिया।

एनडीए के पास स्पष्ट बहुमत- अठावले
एनडीए सरकार पर खरगे की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया देते हुए केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने कहा, “एनडीए के पास स्पष्ट बहुमत है। हमने 292 लोकसभा सीटें जीती हैं…मैं मल्लिकार्जुन खरगे को विपक्ष की भूमिका निभाने की सलाह देता हूं।” अठावले रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (ए) के अध्यक्ष हैं और एनडीए गठबंधन के सहयोगी हैं।

गलती से उन्हें कुछ ताकत मिल गई है- मांझी 
केंद्रीय मंत्री जीतन राम मांझी ने कहा, ”मैं बस इतना ही कहूंगा कि गलती से उन्हें कुछ ताकत मिल गई है।” मांझी हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (एचएएम) के संस्थापक अध्यक्ष हैं, जो केंद्र में एनडीए का सहयोगी है।

जानें किसे कितनी सीटें मिलीं
हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों में भाजपा को कुल 240 सीटें मिलीं, जो बहुमत के आंकड़े 272 से कम थी, और पार्टी को सरकार बनाने के लिए अपने सहयोगियों पर निर्भर रहना पड़ा। जिन चार सहयोगियों के समर्थन से भाजपा ने रिकॉर्ड तीसरी बार सरकार बनाने में मदद की, वे हैं एन चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी, जिसने 16 सीटें जीती हैं, नीतीश कुमार की जेडीयू (12), एकनाथ शिंदे की शिवसेना (7) और चिराग पासवान की लोक जनशक्ति पार्टी-रामविलास ने (5) सीटें जीतीं हैं।

डोनेट करें - जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर क्राइम कैप न्यूज़ को डोनेट करें.
 
Show More

Related Articles

Back to top button
Close