खेल

‘हम उंगली नहीं उठा सकते’, अर्जुन रणतुंगा के बयान से बैकफुट पर श्रीलंका सरकार, जय शाह से मांगी माफी

श्रीलंकाई सरकार ने पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा द्वारा की गई टिप्पणी पर एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) के अध्यक्ष और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सचिव जय शाह से औपचारिक रूप से माफी मांगी है. गौरतलब है कि श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने अजीबोगरीब बयान देते हुए श्रीलंका क्रिकेट की बर्बादी के लिए लिए बीसीसीआई सचिव जय शाह को जिम्मेदार ठहराया था.

नई दिल्ली:

क्रिकेट वर्ल्ड कप में टीम के खराब प्रदर्शन को लेकर श्रीलंका में बवाल मचा हुआ है. श्रीलंका सरकार ने वर्ल्ड कप के बीच में ही श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड को बर्खास्त कर दिया है और इसके बाद राजनीतिक दखल की वजह से आईसीसी ने श्रीलंका क्रिकेट को ही सस्पेंड कर दिया है. वहीं, श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने श्रीलंका क्रिकेट की इस बुरी स्थिति के लिए बीसीसीआई सचिव जय शाह को जिम्मेदार ठहराया है. मगर अब श्रीलंकाई सरकार ने पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा द्वारा की गई टिप्पणी पर एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) के अध्यक्ष और भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सचिव जय शाह से औपचारिक रूप से माफी मांगी है. गौरतलब है कि श्रीलंका के पूर्व कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने अजीबोगरीब बयान देते हुए श्रीलंका क्रिकेट की बर्बादी के लिए लिए बीसीसीआई सचिव जय शाह को जिम्मेदार ठहराया था.

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, शुक्रवार को श्रीलंका के संसदीय सत्र के दौरान श्रीलंका सरकार के दोनों मंत्रियों हरिन फर्नांडो और कंचना विजेसेकरा ने घटना के संबंध में खेद व्यक्त किया. उन्होंने स्पष्ट किया कि जिम्मेदारी बाहरी संस्थाओं के बजाय श्रीलंकाई प्रशासकों की है. मंत्री कंचना विजेसेकेरा ने कहा, ‘एक सरकार के रूप में हम एशियाई क्रिकेट परिषद के प्रमुख जय शाह के प्रति अपना खेद व्यक्त करते हैं. हम अपने संस्थानों की कमियों के लिए एशियाई क्रिकेट परिषद सचिव या अन्य देशों पर उंगली नहीं उठा सकते. यह एक गलत धारणा है.’ वहीं, पर्यटन मंत्री हरिन फर्नांडो ने कहा कि राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने श्रीलंका क्रिकेट पर आईसीसी द्वारा लगाए गए प्रतिबंध को हटाने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सचिव जय शाह के साथ संचार शुरू किया है.

वहीं ‘द हिंदू’ की रिपोर्ट के मुताबिक, श्रीलंका के राष्ट्रपति रानिल विक्रमसिंघे ने 16 नवंबर को एशियाई क्रिकेट परिषद (एसीसी) के अध्यक्ष जय शाह को फोन किया और अर्जुन की टिप्पणी पर खेद व्यक्त किया. द हिंदू ने पर्यटन मंत्री हरिन फर्नांडो के हवाले से कहा कि राष्ट्रपति ने गुरुवार सुबह जय शाह से बात की. आज यानी शुक्रवार को मैंने और मेरे कैबिनेट सहयोगी (बिजली और ऊर्जा मंत्री कंचना विजेसेकेरा) ने जय शाह से उन पर निशाना साधने वाली रणतुंगा की टिप्पणियों के लिए संसद में माफी मांगी. बता दें कि अर्जुन रणतुंगा ने श्रीलंकाई क्रिकेट के पतन के लिए जय शाह को दोषी ठहराया है. पूर्व विश्व कप विजेता श्रीलंकाई कप्तान अर्जुन रणतुंगा ने जय शाह पर श्रीलंका क्रिकेट को चलाने और ‘बर्बाद’ करने का आरोप लगाया था.

मंत्री हरिन फर्नांडो ने आगाह किया कि श्रीलंका क्रिकेट पर आईसीसी बैन के देश के लिए प्रतिकूल परिणाम हो सकते हैं, विशेष रूप से अगले वर्ष जनवरी में होने वाले आगामी अंडर -19 क्रिकेट विश्व कप पर असर पड़ेगा. उन्होंने कहा कि अगर आईसीसी का प्रतिबंध नहीं हटाया गया तो कोई भी टूर्नामेंट के लिए श्रीलंका का दौरा नहीं करेगा. श्रीलंका को क्रिकेट टूर्नामेंट से एक पैसा भी नहीं मिलेगा. बता दें कि अर्जुन रणतुंगा ने कहा था, ‘जय शाह श्रीलंका क्रिकेट चला रहे हैं. उनके दबाव के कारण श्रीलंका क्रिकेट टीम बर्बाद हो रही है. भारत में एक आदमी श्रीलंकाई क्रिकेट को बर्बाद कर रहा है. वह केवल अपने पिता के कारण शक्तिशाली हैं, जो भारत के गृह मंत्री हैं.’

डोनेट करें - जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर क्राइम कैप न्यूज़ को डोनेट करें.
 
Show More

Related Articles

Back to top button
Close