देश

महाराष्ट्र के बाद राजस्थान में ओमिक्रॉन के 9 मामले, देश भर में 21 केस

जयपुर में 9 लोगों को कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित पाए जाने के बाद चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया (Vaibhav Galriya) ने बताया कि विभाग ने दक्षिण अफ्रीका से आए परिवार को पूर्व में ही आरयूएचएस में भर्ती करवा दिया था.

जयपुर.

भारत में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Case in India) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. रविवार को राजस्थान की राजधानी जयपुर में 9 लोगों में ओमिक्रॉन वेरिएंट (Rajasthan Omicron Case) की पुष्टि हुई है. जयपुर के एक ही परिवार के 4 लोगों और उनके रिश्तेदारों समेत कुल 9 लोगों की जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome sequencing) रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. जानकारी के मुताबिक, जयपुर के 9 सैंपल में दक्षिण अफ्रीका के ओमिक्रॉन वेरिएंट की पुष्टि हुई है. इनमें से 4 लोग दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे. अन्य 5 इनके संपर्क में थे. सभी का ट्रीटमेंट जारी है. सभी की हालत सामान्य बताई जा रही है.

जयपुर में 9 लोगों को कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमित पाए जाने के बाद चिकित्सा सचिव वैभव गालरिया (Vaibhav Galriya) ने बताया कि विभाग ने दक्षिण अफ्रीका से आए परिवार को पूर्व में ही आरयूएचएस में भर्ती करवा दिया था. उनके संपर्क में आए 5 अन्य लोग भी संक्रमित पाए गए हैं, इन्हें भी आरयूएचएस में एडमिट किया गया है.

देशभर में 21 हुई ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीजों की संख्या
जयपुर में ओमिक्रॉन के नए 9 मामले आने के बाद देश में कुल संक्रमितों की संख्या 21 हो गई है. इससे पहले रविवार शाम को ही महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के अबतक कुल 8 मामले सामने आ चुके हैं. महाराष्ट्र के पुणे में एक ही परिवार के 6 लोगों में ओमिक्रॉन वेरिएंट की पुष्टि हुई है. दिल्ली-गुजरात में एक-एक और कर्नाटक से 2 मालमे सामने आ चुके हैं.

इंटरनेशनल पैसेंजर्स के लिए नई गाइडलाइन जारी
भारत में ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने इंटरनेशनल पैसेंजर्स के लिए नई गाइडलाइन जारी की है. केंद्र सरकार ने ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, बोत्सवाना, चीन, मॉरीशस, न्यूजीलैंड, जिम्बाब्वे, सिंगापुर, हांगकांग और इजराइल को ‘जोखिम वाले देशों’ की सूची में शामिल किया गया है.

गाइडलाइन में कहा गया है कि ‘जोखिम वाले देशों’ से आने वाले यात्रियों को RT-PCR टेस्ट कराना अनिवार्य है और उन्हें परिणाम आने के बाद ही हवाई अड्डे से जाने की अनुमति होगी. इसके अलावा अन्य देशों से आने वाले दो प्रतिशत यात्रियों की जांच की जाएगी और इस जांच के लिए किसी भी यात्री के नमूने लिए जा सकते हैं.

Show More

Related Articles

Back to top button
Close