धर्म

हस्तरेखा के कुछ दुर्लभ योग जो मनुष्य को बनाते हैं भाग्यशाली : Palmistry

हस्तरेखा शास्त्र में ऐसे अनेक योगों का वर्णन मिलता है जो दुर्लभ होते हैं और मनुष्य को महाभाग्यशाली बनाते हैं। ये योग न केवल उच्च पद-प्रतिष्ठा प्रदान करते हैं बल्कि मनुष्य को अटूट लक्ष्मी भी प्रदान करते हैं।

महाभाग्य योग

यदि किसी व्यक्ति का जन्म दिन के समय हो। सूर्य रेखा अर्थात् अनामिका अंगुली के नीचे से शुरू होने वाली रेखा पूर्ण लंबाई लिए हुए स्पष्ट और निर्दोष हो तथा सूर्य पर्वत पूर्ण विकसित, पुष्ट हो। इसके अलावा चंद्र और गुरु पर्वत भी सुदृढ़ हों तो महाभाग्य योग होता है। यह योग जिसके हाथ में होता है वह व्यक्ति सौभाग्यशाली और सफल नेतृत्वकर्ता होता है। इनके जीवन में पैसों की कमी नहीं होती।

भेरी योग

यदि दाहिने हाथ में बुध पर्वत विकसित हो तथा बुध रेखा छोटी-छोटी रेखाओं से मिलकर रस्सी जैसी बनती हो तो भेरी योग होता है। इस योग में जन्म लेने वाला व्यक्ति स्वस्थ, दीर्घायु, महाधनवान, गुणवान तथा परिश्रमी होता है। उसके जीवन में मित्रों की संख्या ज्यादा होती है।

 

श्रीनाथ योग

यदि हथेली में चंद्र पर्वत विकसित हो तथा चंद्र रेखा छोटी-छोटी रेखाओं से मिलकर ऊपर की ओर बढ़े और कहीं से टूटी हुई ना हो तो श्रीनाथ योग होता है। जिसके हाथ में श्रीनाथ योग होता है वह व्यक्ति आर्थिक दृष्टि से पूर्ण सुखी और संपन्न होता है। यह उदार भी होता है और गरीबों को सहायतार्थ धन देने में संकोच नहीं करता।

शंख योग

यदि शुक्र पर्वत का क्षेत्र विस्तृत हो तथा उससे एक रेखा शनि पर्वत पर तथा दूसरी रेखा सूर्य पर्वत पर जाती हो तो शंख योग होता है। इस योग में जन्मा व्यक्ति पूरा जीवन आनंद और भोग विलास में व्यतीत करता है। दूसरों के प्रति सहृदय होता है। धर्म में विशेष रुचि होने से इसके सैकड़ों हजारों प्रशंसक होते हैं।

Show More

Related Articles

Back to top button
Close