हेल्थ

साग जिसके बिना अधूरा है जितिया पर्व, देखने में बेतरतीब, बीपी-शुगर समेत 5 बीमारियों के लिए रामबाण

 बिहार और झारखंड में जितिया पर्व मनाया जाता है. इस पर्व में जो व्रती होती हैं उनके लिए नोनी का साग खाना अनिवार्य होता है. हालांकि इस साग के बारे में बहुत कम लोग जानते हैं लेकिन इसके फायदे बेमिसाल हैं. नोनी के साग से ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर, कोलेस्ट्रॉल सहित कई बीमारियों के खतरे को कम किया जाता है.

Health Benefits of Noni Saag: कुछ चीजें ऐसी होती हैं जिनके बारे में बहुत कम लोगों को पता होता है लेकिन ये चीजें सेहत का खजाना होती है. नोनी का साग भी इन्हीं में से एक है जो बिहार, झारखंड में पाया जाता है. बिहार, झारखंड में मनाए जाने वाले जितिया पर्व में व्रती नोनी का साग खाती हैं. इस साग के बिना जिउतिया का पर्व अधूरा है. नोनी के साग में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं जिसके कारण यह बेहद गुणकारी साग बन गया है. नोनी के साग में फ्लेवेनोएड, सैपोनिन और टैनिन जैसे कंपाउड पाए जाते हैं. इसके साथ ही इसमें विटामिन ए, विटामिन बी, विटामिन सी, विटामिन डी और विटामिन ई भी पाया जाता है. कुछ अध्ययनों के मुताबिक नोनी के साग में एंटी-बैक्टीरियाल, एंटीफंगल और एंटी-ऑक्सीडेंट्स गुण मौजूद है. नोनी का साग एंटी-डायबेटिक भी होता है. यह हार्ट के लिए भी बहुत अच्छा माना जाता है. नोनी का साग लिवर और स्किन के लिए भी बेहद गुणकारी है. आइए जानते हैं नोनी के साग के अनमोल फायदे…

नोनी के साग के फायदे

1. इम्यूनिटी बूस्टर-पबमेड सेंट्रल जर्नल के मुताबिक नोनी के साग में पाए जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट्स इम्यूनिटी बूस्टर है. नोनी के साग में पाए जाने वाले कंपाउड शरीर में टी और बी सेल्स को सक्रिय कर देता है जिसके कारण ये शरीर में बाहरी आक्रमणकारियों से रक्षा करते हैं. यह डब्ल्यूबीसी यानी श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या को भी बढ़ा देता है जिसके कारण बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है.

2. जोड़ों के दर्द से आराम-नोनी के साग का नियमित सेवन करने गठिया के दर्द से आराम मिलता है. नोनी के साग में एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होता है जिसके कारण यह जोड़ों के बीच में जमा सूजन को खत्म करता है. अध्ययन के मुताबिक नोनी के साग खाने के बाद गठिया के दर्द में उसी तरह आराम मिलता है जिस तरह दवा खाने से आराम मिलती है.

3. हार्ट के लिए सुरक्षा कवच-नोनी के साग में फ्लेवेनोएड एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जो हार्ट के मसल्स को मजबूत करने के लिए जाना जाता है. नोनी के साग का नियमित सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है और गुड कोलेस्ट्रॉल बढ़ जाता है. नोनी का साग ब्लड प्रेशर को भी संतुलित करने में मदद करता है. यह ट्राईग्लिसराइडस के लेवल को भी कम करता है.

4. डायबिटीज में रामबाण-डायबेटिक व्यक्ति अगर नियमित रूप से नोनी के साग का सेवन करे तो ब्लड शुगर का स्तर बहुत कम समय में सामान्य हो जाता है. नोनी के साग में मौजूद कंपाउड इंसुलिन सेंसेविटी को बढ़ाता है जिसके कारण नेचुरल रूप से शुगर का अवशोषण हो पाता है. इससे ब्लड शुगर नियंत्रित रहता है.

5. पेशाब साफ रखने में मददगार-नोनी के साग पेशाब से संबंधित समस्याओं का भी समाधान करता है. एक तरह से यह किडनी को डिटॉक्सीफाई करता है. नोनी के साग खाने के अलावा आप इसे जूस बनाकर भी पी सकते हैं.

6. लीवर की सुरक्षा-नोनी के साग से लीवर कोशिकाएं मजबूत होती है. नोनी का साग हेपाटो प्रोटेक्टिव इफेक्ट डालता है जो क्रोनिक एक्सोजेनेसिस केमिकल्स के हानिकारक प्रभाव को खत्म करता है. इस तरह नोनी का साग लीवर डिटॉक्स के लिए भी बेहतरीन ऑप्शन है.

डोनेट करें - जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर क्राइम कैप न्यूज़ को डोनेट करें.
 
Show More

Related Articles

Back to top button
Close