सभी राज्य

आदित्य-एल1 सफल प्रक्षेपण भारत के लिए चमकदार क्षण

भारत ने अपने पीएसएलवी राॅकेट से शनिवार दोपहर सूर्य का अध्ययन करने के लिए अपने आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित कर दिया।

श्रीहरिकोटा

भारत ने अपने पीएसएलवी राॅकेट से शनिवार दोपहर सूर्य का अध्ययन करने के लिए अपने आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान को सफलतापूर्वक कक्षा में स्थापित कर दिया।

आदित्य-एल1 चार महीने में 1.5 मिलियन किमी की यात्रा कर अपने इच्छित स्थान पर पहुंचेगा।

इस सफलता पर  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के अध्यक्ष डॉ. एस.सोमनाथ ने कहा, “आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान को उसकी इच्छित कक्षा में स्थापित कर दिया गया है। यह एक अलग मिशन है। अब से, आदित्य-एल1 एल1 (लैग्रेंज प्वाइंट 1) तक अपनी 125 दिन की यात्रा शुरू करेगा।”

केंद्रीय राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह, जो यहां प्रक्षेपण के गवाह बने, ने कहा, “यह भारत के लिए एक सुखद क्षण है।”

आदित्य-एल1 की परियोजना निदेशक निगार शाजी ने कहा, “एक बार जब आदित्य-एल1 एल1 बिंदु पर पहुंच जाएगा, तो यह वैज्ञानिक समुदाय के लिए एक बड़ी संपत्ति होगी।”

गौरतलब है कि शनिवार सुबह लगभग 11.50 बजे, 44.4 मीटर लंबा, 321 टन वजनी ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान-सी57 (पीएसएलवी-सी57) के साथ आदित्‍य एल-1 ने उड़ा़न भरी।

अपनी पूंछ पर मोटी नारंगी लौ के साथ धीरे-धीरे आसमान की ओर बढ़ते हुए, रॉकेट ने गड़गड़ाहट के साथ गति प्राप्त की और एक मोटी गुबार छोड़ते हुए ऊपर और ऊपर चला गया।

दिलचस्प बात यह है कि यह भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के लिए सबसे लंबे मिशनों में से एक है।

प्रक्षेपण के लगभग 63 मिनट बाद, रॉकेट ने आदित्य-एल1 को पृथ्‍वी की कक्षा से बाहर निकाल दिया और चौथे चरण केके लगभग 73 मिनट बाद पूरा पीएसएलवी मिशन समाप्त हो गया।

विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वीएसएससी) के निदेशक डॉ. एस. उन्नीकृष्णन ने लंबी उड़ान अवधि के बारे में आईएएनएस को बताया, ”पहली बार जलने के बाद प्राकृतिक रूप से होने वाले पेरिगी के तर्क को प्राप्त करने के लिए एक लंबी तटरेखा होती है। उन्‍होंने कहा, “हमें उपग्रह की पेरिगी के तर्क को पूरा करना होगा। इसके लिए हम चौथे चरण के लिए दो बर्न रणनीतियों का पालन कर रहे हैं। ”

उड़ान योजना में रॉकेट के चौथे चरण को दो बार बंद करना और इसे लगभग 30 मिनट के लिए पहली कट ऑफ के बाद 26 मिनट और दूसरी कट ऑफ के लगभग 3 मिनट बादतट पर जाने की अनुमति देना शामिल है।

पृथ्वी की निचली कक्षा (एलईओ) में स्थापित होने पर, आदित्य-एल1 की कक्षा शुरू में अण्डाकार होगी। जैसे ही अंतरिक्ष यान लैग्रेंज पॉइंट (एल1) की ओर यात्रा करेगा, यह पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र (एसओआई) से बाहर निकल जाएगा।

एसओआई से बाहर निकलने के बाद, क्रूज़ चरण शुरू हो जाएगा और बाद में अंतरिक्ष यान को एल 1 के चारों ओर एक बड़ी प्रभामंडल कक्षा में इंजेक्ट किया जाएगा – वह बिंदु जहां सूर्य और पृथ्वी – का गुरुत्वाकर्षण खिंचाव बराबर होगा।

इसरो ने कहा, “एल1 बिंदु के चारों ओर प्रभामंडल कक्षा में रखे गए उपग्रह को बिना किसी ग्रहण/ग्रहण के लगातार सूर्य को देखने का प्रमुख लाभ मिलता है। इससे वास्तविक समय में सौर गतिविधियों और अंतरिक्ष मौसम पर इसके प्रभाव को देखने का अधिक लाभ मिलेगा।”

दिलचस्प बात यह है कि एक्सएल वेरिएंट रॉकेट का इस्तेमाल पहली बार भारत के पहले इंटरप्लेनेटरी मिशन – चंद्रयान -1 या चंद्रमा मिशन -1 के लिए किया गया था। बाद में रॉकेट का उपयोग चंद्रयान-2 और मंगल मिशन/मार्स ऑर्बिटर मिशन के लिए किया गया।

शनिवार काे पीएसएलवी-एक्सएल संस्करण 25वीं बार किसी अन्य अंतरग्रहीय मिशन के लिए उड़ान भरा।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा, आदित्य-एल1 अंतरिक्ष यान विद्युत चुम्बकीय और कण और चुंबकीय क्षेत्र डिटेक्टरों का उपयोग करके प्रकाशमंडल, क्रोमोस्फीयर और सूर्य की सबसे बाहरी परतों (कोरोना) का निरीक्षण करने के लिए सात पेलोड लेकर गया है।

इसरो ने कहा, “विशेष सुविधाजनक बिंदु एल1 का उपयोग करते हुए, चार पेलोड सीधे सूर्य को देखते हैं और शेष तीन पेलोड लैग्रेंज बिंदु एल1 पर कणों और क्षेत्रों का इन-सीटू अध्ययन करते हैं, इस प्रकार अंतरग्रहीय में सौर गतिशीलता के प्रसार प्रभाव का महत्वपूर्ण वैज्ञानिक अध्ययन प्रदान करते हैं।“

अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा, उम्मीद है कि आदित्य-एल1 के सात पेलोड कोरोनल हीटिंग, कोरोनल मास इजेक्शन, प्री-फ्लेयर और फ्लेयर गतिविधियों और उनकी विशेषताओं, अंतरिक्ष मौसम की गतिशीलता, कण और क्षेत्रों के प्रसार और अन्य की समस्या को समझने के लिए सबसे महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

इसरो ने कहा कि आदित्य-एल1 मिशन के प्रमुख उद्देश्य सौर ऊपरी वायुमंडलीय (क्रोमोस्फीयर और कोरोना) गतिशीलता का अध्ययन, क्रोमोस्फेरिक और कोरोनल हीटिंग का अध्ययन, आंशिक रूप से आयनित प्लाज्मा की भौतिकी, और कोरोनल मास इजेक्शन का अध्‍ययन है।

यह सूर्य से कण गतिशीलता के अध्ययन के लिए डेटा प्रदान करने वाले इन-सीटू कण और प्लाज्मा वातावरण का भी निरीक्षण करेगा।

अन्य उद्देश्य हैं सौर कोरोना और उसके ताप तंत्र की भौतिकी, कोरोनल और कोरोनल लूप प्लाज्मा का निदान, तापमान, वेग और घनत्व, विकास, गतिशीलता और कोरोनल मास इजेक्शन (सीएमई) की उत्पत्ति, होने वाली प्रक्रियाओं के अनुक्रम की पहचान आदि।

इसरो के अनुसार, 4.5 अरब वर्ष पुराना सूर्य हाइड्रोजन और हीलियम गैसों का एक गर्म चमकता हुआ गोला है और सौर मंडल के लिए ऊर्जा का स्रोत है।

इसमें कहा गया है, “सूर्य का गुरुत्वाकर्षण सौर मंडल की सभी वस्तुओं को एक साथ बांधे रखता है। सूर्य के मध्य क्षेत्र, जिसे ‘कोर’ के रूप में जाना जाता है, में तापमान 15 मिलियन डिग्री सेल्सियस तक पहुंच सकता है।”

इस तापमान पर, कोर में परमाणु संलयन नामक एक प्रक्रिया होती है जो सूर्य को शक्ति प्रदान करती है। इसरो ने कहा कि सूर्य की दृश्य सतह जिसे फोटोस्फीयर के रूप में जाना जाता है, अपेक्षाकृत ठंडी है और इसका तापमान लगभग 5,500 डिग्री सेल्सियस है।

सूर्य पृथ्‍वी का निकटतम तारा है और इसलिए इसका अध्ययन अन्य तारों की तुलना में अधिक विस्तार से किया जा सकता है। इसरो ने कहा, सूर्य का अध्ययन करके, हम अपनी आकाशगंगा के तारों के साथ-साथ विभिन्न अन्य आकाशगंगाओं के तारों के बारे में भी बहुत कुछ जान सकते हैं।

सूर्य एक अत्यंत गतिशील तारा है जो हम जो देखते हैं उससे कहीं अधिक फैला हुआ है। यह कई विस्फोटक घटनाओं को दर्शाता है और सौर मंडल में भारी मात्रा में ऊर्जा छोड़ता है। यदि ऐसी विस्फोटक सौर घटना को पृथ्वी की ओर निर्देशित किया जाता है, तो यह पृथ्वी के निकट अंतरिक्ष वातावरण में विभिन्न प्रकार की गड़बड़ी पैदा कर सकती है।

विभिन्न अंतरिक्ष यान और संचार प्रणालियाँ ऐसी गड़बड़ी से ग्रस्त हैं और इसलिए पहले से ही सुधारात्मक उपाय करने के लिए ऐसी घटनाओं की प्रारंभिक चेतावनी महत्वपूर्ण है।

इनके अलावा, यदि कोई अंतरिक्ष यात्री सीधे ऐसी विस्फोटक घटनाओं के संपर्क में आता है, तो वह खतरे में पड़ जाएगा। सूर्य पर विभिन्न तापीय और चुंबकीय घटनाएं अत्यधिक प्रकृति की हैं।

इस प्रकार, सूर्य उन घटनाओं को समझने के लिए एक अच्छी प्राकृतिक प्रयोगशाला भी प्रदान करता है जिनका सीधे प्रयोगशाला में अध्ययन नहीं किया जा सकता है।

भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने कहा कि आदित्य-एल1 द्वारा ले जाए गए सभी सात पेलोड देश में विभिन्न प्रयोगशालाओं  में स्वदेशी रूप से विकसित किए गए हैं।

विजिबल एमिशन लाइन कोरोनाग्राफ (वीईएलसी) उपकरण भारतीय खगोल भौतिकी संस्थान, बेंगलुरु में, इंटर यूनिवर्सिटी सेंटर फॉर एस्ट्रोनॉमी एंड एस्ट्रोफिजिक्स, पुणे में सोलर अल्ट्रावॉयलेट इमेजिंग टेलीस्कोप (एसयूआईटी) उपकरण; भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, अहमदाबाद में आदित्य सौर पवन कण प्रयोग (एएसपीईएक्स); अंतरिक्ष भौतिकी प्रयोगशाला, विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र, तिरुवनंतपुरम में आदित्य (पीएपीए) के लिए प्लाज्मा विश्लेषक पैकेज; यू आर राव सैटेलाइट सेंटर, बेंगलुरु में सोलर लो एनर्जी एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर और हाई एनर्जी एल1 ऑर्बिटिंग एक्स-रे स्पेक्ट्रोमीटर पेलोड और इलेक्ट्रो ऑप्टिक्स सिस्टम, बेंगलुरु की प्रयोगशाला में विकसित किया गया।

डोनेट करें - जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर क्राइम कैप न्यूज़ को डोनेट करें.
 
Show More

Related Articles

Back to top button
Close